मुख्य सामग्री पर जाएं
स्क्रीन रीडर एक्सेस
रविवार, 01 अक्टूबर 2023
मुख्य समाचार:

रायपुर : विद्यार्थी देश व समाज की उन्नति के लिए योगदान दें - राज्यपाल श्री हरिचंदन

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह मे शामिल हुए राज्यपाल और मुख्यमंत्री
12 हजार 384 विद्यार्थियों को प्रदान की उपाधि, 62 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक वितरित 

रायपुर, 18 अप्रैल  2023

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह

विद्यार्थियों के लिए यह गर्व का विषय है कि वे विश्व के सबसे बडे़ प्रजातांत्रिक देश के नागरिक है। उनकी उपलब्धि में राष्ट्र एवं समाज का महत्वपूर्ण योगदान हैैैैं। विद्यार्थियों का भी यह कर्तव्य है कि वे अपनी शिक्षा का उपयोग राष्ट्र व समाज की उन्नति में करें। उक्त उद्गार राज्यपाल श्री विश्वभूषण हरिचंदन ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के 9वें दीक्षांत समारोह में व्यक्त किये इस अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल और विशिष्ट अतिथि के रूप में कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे और डॉ. त्रिलोचन महापात्रा पूर्व महानिदेशक आई.सी.ए.आर. उपस्थित थे।
इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय रायपुर के सभागार में आयोजित भव्य एवं गरिमामय दीक्षांत समारोह में 12 हजार 384 विद्यार्थियों को उपाधि प्रदान की गयी। इनमें 9 हजार 908 स्नातक, 2 हजार 96 स्नातकोत्तर और 380 पीएचडी डिग्री धारी विद्यार्थी शामिल हैं। प्रावीण्य सूची के 62 छात्रों को स्वर्ण, 140 रजत और 23 कांस्य पदक प्रदान किये गये।

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह
कार्यक्रम के अध्यक्षीय उद्बोधन में राज्यपाल श्री विश्वभूषण हरिचंदन ने कहा कि कृषि विश्वविद्यालय, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा अनुसंधान और विस्तार शिक्षा प्रदान करके राष्ट्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। छत्तीसगढ़ राज्य के गठन के समय इस विश्वविद्यालय में केवल एक कृषि महाविद्यालय था और वर्तमान में कृषि और संबद्ध विषयों के 39 महाविद्यालय हैं। वर्तमान में विश्वविद्यालय में लगभग करीब 15 राज्यों के 11000 विद्यार्थी अध्ययनरत हैं। विश्वविद्यालय ने अब तक 50 से अधिक फसलों की 162 किस्में विकसित और जारी की हैं जो किसानों के बीच बहुत लोकप्रिय हैं। विश्विद्यालय की 12 शोध परियोजनाओं को देश के सर्वश्रेष्ठ शोध परियोजनाओं का पुरस्कार मिल चुका है। 

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह
राज्यपाल ने कहा कि लगातार बढती आबादी के भोजन कीे जरूरतों को पूरा करने के लिए रासायनिक उत्पादों और नई तकनीको ने महत्वपूर्ण भूमिका निभायी है। लेकिन रासयनिक खाद के अधिक उपयोग के परिणाम स्वरूप  मानव और मिट्टी के स्वास्थ पर बुरा प्रभाव पड़ा। इन समस्याओं के समाधान हेतु जैविक खेती को एक बेहतर विकल्प के रूप में देखा जा रहा है। कृषि के विद्यार्थियों को इस क्षेत्र में अपना योगदान देने की आवश्यकता है। जैविक खेती के प्रयोग से किसान को ने केवल दूरगामी लाभ मिलते हैं, बल्कि उत्पादन लागत में भी 25-30 प्रतिशत की कमी आती है। भूमि की गुणवत्ता और उर्वरता बढ़ाने के साथ-साथ यह भूमि में कार्बन पृथक्करण में भी योगदान देता है। किसानों की आशा और विश्वास को पूरा करने के लिए सभी वैज्ञानिकांे, शिक्षकों और विद्यार्थियों को कड़ी मेहनत करनी होगी। विश्वविद्यालय के ज्ञान के निरंतर प्रवाह से राज्य और देश के किसानो को और आम लोगों को लाभ मिलेगा। 

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह
मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ कृषि प्रधान राज्य है और यहां धान की खेती सर्वाधिक होती है। कृषि प्रधान इस राज्य में इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय का विशिष्ट स्थान है। इस विश्वविद्यालय ने कृषि अनुसंधान और खेती-किसानी के अत्याधुनिक तौर तरीकों और तकनीकी के प्रचार-प्रसार में अनेक महत्वपूर्ण उपलब्धियां हासिल की है। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय ने 40 से अधिक फसलों की उन्नत प्रजातियों को विकसित करने के साथ-साथ 40 कृषि यंत्र तैयार किए हैं, जो खेती किसानी में काफी उपयोगी हैं। इस विश्वविद्यालय में धान के 23 हजार 250 जर्मप्लाज्म संरक्षित हैं। आज यदि छत्तीसगढ़ की कृषि समृद्ध और उन्नत है, तो इसमें छत्तीसगढ़ के किसानों के साथ-साथ इस विश्वविद्यालय के कृषि वैज्ञानिकों का महत्वपूूर्ण योगदान है। मुख्यमंत्री ने जलवायु परिवर्तन की चुनौतियों के संबंध में कहा कि छत्तीसगढ़ के किसान पैरा नहीं जलाते, पैरे का दान करते हैं। राज्य सरकार द्वारा गौठानों में पशुओं के लिए किसानों से लेकर पैरा की व्यवस्था की जाती है। इससे कार्बन उत्सर्जन कम होता है। आज रूस, यूक्रेन युद्ध के चलते यूरोप में गेहूं का संकट उत्पन्न हो गया है। ऐसे में छत्तीसगढ़ में उत्पादित होने वाले चावल के निर्यात को बढ़ावा मिलने से हमारे किसानों को फायदा होगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ ने कोदो, कुटकी का न सिर्फ समर्थन मूल्य घोषित किया अपितु इनकी खरीदी भी की। उन्होंने दीक्षांत समारोह में मेडल और उपाधि प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को बधाई और शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इन विद्यार्थियों के माध्यम से कृषि के क्षेत्र में नई चेतना आएगी। और नवाचार को बढ़ावा मिलेगा। 

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के 9वें दीक्षांत समारोह
समारोह के विशिष्ट अतिथि कृषि मंत्री श्री रविन्द्र चौबे ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कृषि क्रंाति के लिए विश्वविद्यालय का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने आव्हान किया कि कृषि के क्षेत्र में ज्यादा से ज्यादा शोध हो व नई तकनीक ईजाद करें जिसका लाभ किसानों को मिलेगा। समारोह में दीक्षांत भाषण डॉ. त्रिलोचन महापात्रा पूर्व महानिदेशक भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद नई दिल्ली ने दिया। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. गिरीश चंदेल ने दीक्षांत प्रतिवेदन प्रस्तुत किया उन्होंने विश्वविद्यालय की गतिविधियों एवं उपलब्धियों पर विस्तृत प्रकाश डाला। आभार प्रदर्शन कुलसचिव द्वारा किया गया। दीक्षांत समारोह में विभिन्न विश्वविद्यालय के कुलपति, प्राध्यापक, वैज्ञानिक, विश्वविद्यालय के अधिकारी एवं विद्यार्थी तथा उनके पालक गण उपस्थित थे। 
           
राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय परिसर किया में वृक्षारोपण 
दीक्षांत समारोह को चिरस्मरणीय बनाने के लिए विश्वविद्यालय परिसर में राज्यपाल श्री विश्वभूषण हरिचंदन एवं मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने वृक्षारोपण किया। उन्होंने अशोक वृक्ष के पौधे रोपे।
क्र. 316ए/हर्षा/अग्रवाल/