मुख्य सामग्री पर जाएं
स्क्रीन रीडर एक्सेस
बुधवार, 29 मार्च 2023
मुख्य समाचार:

कवर्धा : आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत जिले में 76 अमृत सरोवर का किया जा रहा निर्माण

कवर्धा

अमृत सरोवरों के निर्माण से जल संरक्षण एवं जल संचय तथा भू-जल स्तर में होगी वृद्धि

अमृत सरोवरों से आजीविका के नए रास्ते खुले, ग्रामीणों को मिल रहा रोजगार-कलेक्टर श्री महोबे

कलेक्टर श्री महोबे द्वारा की जा रही है अमृत सरोवर के निर्माण कार्यों की समीक्षा की

कवर्धा, 18 मार्च 2023

कवर्धा

जल संरक्षण एवं जल संचय करते हुए भू-जल स्तर में वृद्धि करने के उद्देश्य से आजादी के 75 वे वर्षगांठ के अवसर पर आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत कबीरधाम जिले में 76 अमृत सरोवर का निर्माण किया जा रहा है। शासन की प्राथमिकता वाली योजना में लगातार प्रगति कार्य किया जा रहा है। कलेक्टर श्री जनमेजय महोबे द्वारा जिले में चल रहे अमृत सरोवर के निर्माण कार्यों की सतत समीक्षा की जा रही है। अमृत सरोवर के कार्य की प्रगति गुणवत्ता यूज़र ग्रुप निर्माण कार्य का सूचना पटल सहित विभिन्न विषयों पर चर्चा करते हुए ग्राम रोजगार सहायक एवं तकनीकी सहायकों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए।

कबीरधाम जिले में महात्मा गांधी नरेगा अंतर्गत कुल 76 अमृत सरोवर(तालाबो) का निर्माण हो रहा है इसमे जीर्णोद्धार के कार्य 41 एवं 35 नवीन कार्य है। इन कार्यों के लिए 13 करोड़ 23 लाख एक हजार रुपए की स्वीकृति नरेगा योजना से किया गया है। कार्य अभिसरण के अंतर्गत स्वीकृत है तथा इसमें अन्य मद से भी राशि दी गई है। अमृत सरोवर निर्माण से जिले में 2 लाख 34 हजार 895 मानव दिवस का रोजगार ग्रामीणों को मिल चुका है। इन कार्यों से लगे ग्रामीणों को 4 करोड़ 53 लाख रुपए का मजदूरी भुगतान उनके खाते में हो गया है।
कलेक्टर श्री महोबे ने सभी अमृत सरोवर का कार्य शासन द्वारा निर्धारित मापदंड अनुसार गुणवत्ता के साथ समय-सीमा में पूर्ण करने के लिए कहा है। अमृत सरोवर के कार्यों में अधिक से अधिक मजदूरों को रोजगार देते हुए निर्माण कार्य कराए जाने के निर्देश दिए गए। उन्होंने बताया कि देश के सभी जिलों में अमृत सरोवर का निर्माण किया जाना है तथा प्रत्येक जिलों में 75 अमृत सरोवर के निर्माण अथवा नवीनीकरण का लक्ष्य शासन द्वारा रखा गया है। इसी क्रम में महात्मा गांधी नरेगा के अंतर्गत मिशन अमृत सरोवर के तहत 01 जनवरी 2023 से 15 अगस्त 2023 तक विभिन्न गतिविधियों का आयोजन स्थानीय स्तर पर किया जा रहा है। जिसमें ग्राम सभा का आयोजन, अमृत सरोवर के उपयोगकर्ता समूह की बैठक, महिला स्व सहायता समूह द्वारा डोर टू डोर अभियान और रैली, वृक्षारोपण अभियान, पंचायत भवन में दीवार लेखन बैनर पोस्टर आदि से जागरूकता कार्यक्रम सहित विविध आयोजन किए जा रहे है तथा इन सभी कार्यक्रमों का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में निर्माणाधीन अमृत सरोवर में लोगों की भागीदारी सुनिश्चित करते हुए भविष्य के लिए उसे आजीविका के रूप में विकसित करना है। उन्होंने बताया कि कबीरधाम जिले में अमृत सरोवर के रूप में विभिन्न तालाबों का नवीनीकरण एवं नए तालाबों का निर्माण हो रहा है। इन कार्यों से ग्रामीणों को बड़ी मात्रा में रोजगार मिलेगा साथ ही अमृत सरोवरों से आजीविका के नए रास्ते खुले है।

जिला पंचायत सीईओ श्री संदीप कुमार अग्रवाल ने बताया कि प्रतिदिन कार्यों में पंजीकृत मजदूरों को नियोजित कर कार्य संपादित किया जा रहा है। अमृत सरोवर का निर्माण हो जाने के उपरांत यूजर ग्रुप बनाते हुए आजीविका के गतिविधियों को प्रारंभ करना है, जिससे स्थाई रोजगार का सृजन हो सके। निर्माण कार्य में लगे पंजीकृत मजदूरों को समय-सीमा में मजदूरी भुगतान पूर्ण कराने के निर्देश मैदानी कर्मचारियों को दिया गया। उन्होंने बताया कि सभी तकनीकी सहायकों को प्रतिदिन कार्यस्थल पर उपस्थित होकर कार्य कराए जाने हेतु निर्देशित किया गया।

समाचार क्रमांक-324/गुलाब डड़सेना/निखलेश